सर्वपितृ मुक्ति एवं मानव कल्याण संस्था(रजि )मुकेरियां – संस्था द्वारा किए जा रहे कार्य

सर्वपितृ मुक्ति एवं मानव कल्याण संस्था (रजि ) मुकेरियां
संस्था द्वारा किए जा रहे कार्य —
*1991-92 से लावारिस मृतक प्राणियों की मोक्ष प्राप्ति हेतु अस्थि विसर्जन, पिंडदान, तर्पण आदि करना
*अंतिम संस्कार करने के लिए बेसहारा व निर्धन परिवारों की सहायता करना
*निर्धन, बेसहारा मरीजों को व दुर्घटनाग्रस्त स्थिति में एम्बुलैंस आदि सहायता प्रदान करना
*शव को एक स्थान से गन्तव्य तक पहुंचाने के लिए शव वाहन सहायता प्रदान करना
*सरकारी ऐलीमैंटरी स्कूल व दिव्यांग बच्चों को स्कूल आने जाने की निःशुल्क व्यवस्था करना
*श्मशान घाटों का सौदर्यकरण करना
*रेलवे स्टेशन मुकेरियां पर निःशुल्क शुद्ध ( आर ओ ) पेयजल सेवा 12 महीने मौसम अनुसार मार्च 2019 से

24/7 Ambulance Service

बॉडी उठाने सुविधा फ्री :- लावारिस शवों की करते हैं अंतिम संस्कार और अस्थियों का विसर्जन – अंतिम संस्कार के लिए पार्थिव देह को कस्बे से बाहर बने मोक्षधाम तक लाने में कठिनाइयां होती हैं। ऐसे में शव वाहन उपलब्ध कराने का निर्णय लिया है। लावारिस शवों का अस्थि विसर्जन जरूरतमंदों को शव वाहन उपलब्ध…

 

Free RO Water

Lorem ipsum dolor sit amet, wisi tation libris an per, enim illud laboramus vim et. Ut cum praesent voluptatum. Ad decore constituto incorrupte usu, ludus periculis erroribus id sed, per in munere adipiscing. Et postea graeci indoctum eam, quem docendi antiopam quo et. Est audire legendos concludaturque id, vide vocibus no duo. Bonorum eruditi ei…

 

लावारिस शवों-आत्मा शांति

बीते 1991-92 से लावारिस शवों की अस्थियों को हरिद्वार लाकर गंगा में विसर्जित किया जाता है। वहां पर पूरे विधि-विधान से विसर्जन करवा लावारिस शवों की आत्मा शांति के लिए माँ गंगा से प्रार्थना की जाती है। पिहोवा में भी जाकर लावारिस शवों की आत्मा की शांति के लिए पूजन किया जाता है। यह पुण्य…

 

Repair/Renovation-Shamshan Ghat

Lorem ipsum dolor sit amet, paulo equidem eos et, an nostro volutpat duo. Mea cu audire expetendis intellegam. Rebum ornatus feugait in mei, qui eu platonem deseruisse. Iriure assueverit ex est. Vis dolore utamur aliquip eu, esse corpora antiopam id mel. Per audiam perpetua an, dicam possim utamur sed eu, ex vim putent delicata. Exerci…

 

निःशुल्क शव वाहन सेवा 

मौत के बाद शव को ले जाने के लिए परेशानी नहीं झेलनी होगी। बस एक नंबर डायल करने पर शीघ्र वातानुकूलित शव वाहन आपके पास पहुंचेगा। जिले भर में कहीं भी शव ले जाने के लिए इसका इस्तेमाल किया जा सकता है। पोस्टमार्टम हाउस से भी शव को ले जाने के लिए यह वाहन मिलेगा।…

 

Mortuary Box

We provide mortuary box service which guarantee that the body doesn’t contaminate with time. For everyone to assemble in one place it can take longer and on the burial day, we need everyone important to be present. The dead body must be safeguarded for long with the assistance of mortuary box.

 

 “THE PIND DAAN”

1991-92 से लावारिस शवों की मुक्ति हेतु अस्थि विसर्जन पिंडदान कर रहे कुमार पेंटर मुकेरियां । लावारिस शवों का दाह संस्कार कर अस्थियां करते है गंगा में विसर्जित । किसी का निधन हो जाने पर उसके शव का पूर्ण विधि विधान के साथ दाह संस्कार करने का प्रावधान है। प्रत्येक समाज में ऐसा होता है, लेकिन लावारिस मिले शवों का दाह संस्कार कैसे हो। इस समस्या को दूर करने का बीड़ा उठाया है समाजसेवी कुमार पेंटर ने। कुमार पेंटर पूरे जिले में मिलने वाले लावारिस शवों का न केवल दाह संस्कार करते है बल्कि उनका अस्थियों को हरिद्वार ले जाकर गंगा नदी मेंं विसर्जित भी करते है ताकि हिन्दू धर्म की मान्यता के अनुसार मृतक का आत्मा को मोक्ष प्राप्त हो सके। नाम व फोटो के साथ हम अस्थि कलश को कम से कम एक साल तक संभाल कर रखते है। कई बार मृतक के परिजन उसकी तलाश करते आ जाते है तो उन्हें अस्थियां सौंप देते है। अन्यथा अस्थि कलश ज्यादा एकत्र होने पर उन्हें हरिद्वार ले जाते है।

अगर किसी के पास अस्थि विसर्जन की फुर्सत नहीं है, लावारिस शव है या गरीबी के कारण विसर्जन नहीं कर पा रहे हैं, तो मुझे अस्थियां दें – कुमार पेंटर। मैं उन्हें ससम्मान विसर्जित करूंगा। पिछले 1991-1992 साल से लगातार ऐसे लोगों की अस्थियों का विसर्जन कर रहते आ रहे हैं, जो गरीबी में मर जाते हैं या लावारिस होते हैं। इसके लिए वह बाकायदा कर्म-कांड और जरूरी पूजा-पाठ करवाते हैं । कोई भी उनसे संपर्क करके अस्थि विसर्जन के लिए मदद मांग सकता है। लावारिसों को अपना कांधा देकर मां गंगा की गोद में अर्पित करते है। इस पुनीत कार्य में समाज से पूर्ण सहयोग की अपील करते है कुमार पेंटर।

In “TRETA YUG” jatayu the monarch of the bird species had Lord Rama as his adopted son, for the purpose of getting his last rites performed, especially “THE PIND DAAN” This particular episode had a deep emotional effect on me and there and then I decided to dedicate my whole life for the salvation of the orphaned dead.

In this holy task, I was very ably assisted by my wife, Mrs. Poonam. From 1991-92 year I have been performing the last rites of all those who die unclaimed. These UNIDENTIFIED asthies are marked and then hand over to there relatives. We not only cremate their dead bodies, but also go to Haridwar for consigning the ashes into “THE HOLY GANGA JI” this gives me a deep and gratifying mental satisfaction.

 Unidentified Asthivisarjan Mukerian

Support A Cause –

If you’d like to donate offline, you can do so through any of the following ways:

Cheques/Demand Drafts: You can send these to us either directly or contact us for a pick up.

Scan our UPI code from any of the payment apps on your phone to donate. Once you’ve done so, write to us at kumar9417048601@gmail.com or call us – 9417048601 with your transaction number and personal details like name, email ID, mobile number and PAN number.

Google Pay-9417048601,

PNB A/C- 3434000107257460, IFSC- PUNB034

Ways of Giving

Donate through Cheque / DD, Google Pay, Donate in Honor, Memory, Special Occasion, Kind, Donation of Your Choice.

Join Us

We value our esteemed donors for their continued support. You can spread our social cause by representing us.Your association as our partner is highly valued to bring a change collectively in our society. Your participation in building positive communities in your neighborhood is the most important for us.

Hence, the question that arises here is how can an individual or general public help poor people get education?

Here are some of the ways that one can consider-

  • Donation
  • Volunteering
  • Tutoring the underprivileged
  • Organising collection drives
  • Organising fundraising events 

Thank you all for your support.